कृषि आय बढ़ाने उन्नत तकनीक अपनाएं किसान - स्कूल शिक्षा मंत्री
March 5, 2020 • admin

स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने कहा कि प्रदेश सरकार किसानों के कल्याण तथा कृषि की पैदावार बढ़ाने के लिये निरंतर काम कर रही है। कृषि की पैदावार बढ़ेगी तो किसानों की आय में वृद्धि होगी और वे समृद्ध बनेंगे। डॉ. चौधरी ने कहा कि प्रदेश सरकार किसानों के कल्याण तथा कृषि की पैदावार बढ़ाने के लिए निरंतर काम कर रही है। कृषि की पैदावार बढ़ेगी तो किसानों की आय में वृद्धि होगी और वे आर्थिक रूप से समृद्धि होंगे। उन्होंने किसानों से कहा कि कृषि क्षेत्र में तेजी से आ रहे बदलाव को ध्यान रखते हुए कम लागत में अधिक मुनाफा देने वाली फसलों की खेती करें और इसके लिए किसानों को उन्नत खाद, बीज तथा नई कृषि तकनीक अपनाना चाहिए। डॉ. चौधरी आज रायसेन जिले के कृषि विज्ञान केन्द्र नकतरा में आयोजित कृषि मेला तथा कृषि प्रदर्शनी के शुभारंभ के अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में बोल रहे थे।

डॉ. चौधरी ने कहा कि खेती की उत्पादता में वृद्धि के लिए प्रदेश में सिंचाई की क्षमता बढ़ाने के साथ-साथ सतत् बिजली आपूर्ति की दिशा में काम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा किसानों के हित में अनेक महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए हैं। प्रदेश में 'जय किसान फसल ऋण माफी योजना'' के तहत लाखों किसानों का दो लाख रूपए तक का फसल ऋण माफ किया गया है। फसल ऋण माफ होने से किसान अब बिना किसी चिंता के खेती कर पा रहे हैं। प्रदेश में किसानों के बिजली बिल का भार कम करने के लिए किसानों की 10 हॉर्सपावर तक की मोटर का बिजली बिल आधा किया गया है। प्रदेश में किसानों को कृषि यंत्रों पर अनुदान भी प्रदान किया जा रहा है।

स्कूल शिक्षा मंत्री ने कहा कि प्रदेश में पशुपालन को बढ़ावा देने की दिशा में भी काम किया जा रहा है। किसानों को खेती के साथ-साथ पशुपालन भी अपनाना चाहिए। इससे उन्हें अतिरिक्त आय होगी। उन्होंने कहा कि आमजन को अपनी समस्याओं, शिकायतों के समाधान और शासन की योजनाओं का लाभ लेने के लिए भटकना न पड़े, इसके लिए 'आपकी सरकार-आपके द्वार' कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं।

डॉ. चौधरी ने कहा कि प्रदेश में स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता को ओर अधिक बेहतर बनाने के लिए महत्वपूर्ण निर्णय लिए जाकर उन्हें तेजी से क्रियान्वित किया गया है। इसी प्रकार मुख्यमंत्री युवा स्वाभिमान योजना के तहत युवाओं का कौशल उन्नयन कर उन्हें रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है। इसके साथ ही प्रदेश में स्थापित होने वाले उद्योगों में 70 प्रतिशत रोजगार प्रदेश के युवाओं को देने का महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया है।